Part 3 Majedar Chutkule Series

Majedar Chutkule: विदेशी दोस्त का न्योता

एक आदमी को विदेशी दोस्त के यहां से पार्टी का न्योता आया, जिसमें ड्रैस कोड़ लिखा था, केवल काली टाई।
वो आदमी काली टाई पहन कर पार्टी में चला गया, वहां उसने देखा कि बाकी सब लोग तो टाई के साथ सूट भी पहनकर आये हैं।

😂😂😂

Majedar Chutkule: सुंदर लड़की

वीरू – वो देख लड़की कितनी सुंदर है?
जय – मैं इसे अच्छी तरह से जानता हूँ. यह तो बैंक में काम करती है.
मुझे तो इसका नाम भी मालूम है।
वीरू – क्या नाम है, इसका? जय – बैंक में जहां यह बैठती है, उसके सामने तो लिखा हुआ है, ‘चालू खाता।

😉😉😉

Majedar Chutkule: बसन्ती और सोना

गब्बर सिंह – बसन्ती से, जल्दी से बताओ, सोना कहां है?
बसन्ती – सारा घर खाली पड़ा है, जहां अच्छा लगे, वहां सो जाओ।

😂😂😂

Majedar Chutkule: रेलगाड़ी और तीन सज्जन

एक बार रेलगाड़ी बहुत देर के बाद चली.
मुसलमान भाई बोला – या अली, बला टली,
सामने बैठे एक हिन्दू सज्जन बोले – जय बजरंग बली
अब एक पंजाबी भाई बोला – अरे अली और बली, ध्यान से देखो गाड़ी अपनी नहीं, साथ वाली चली।

😉😉😉😉

Majedar Chutkule: मल्लिका शहरावत और साधू का डेरा

 एक साधू के डेरे पर कोई भी बुरी नीयत से जाता था, तो वो भस्म हो जाता था, एक बार हिंदी फिल्मों के कुछ कलाकार वहां गये, वो सबके सब भस्म हो गये, एक बार मल्लिका शहरावत वहां गई तो अनर्थ हो गया, साधू महाराज ही भस्म हो गये।

🤣🤣🤣🤣